भाजपा विधायक ने अपनी ही सरकार पर साधा निशाना, कहा ‘मेरे परिवार को किया परेशान’

भाजपा विधायक ने अपनी ही सरकार पर साधा निशाना

मंडी HNH | पूर्व सीएम और वरिष्ठ नेता शांता कुमार के प्रदेश भाजपा को लेकर दिए बयान से उठे सियासी उफान के बीच अब सीएम के गृह जिला मंडी सदर के भाजपा विधायक अनिल शर्मा ने सरकार की कार्यशैली पर प्रश्नचिह्न लगाए हैं. वीरवार को मंडी में पत्रकारों से बातचीत में विधायक बोले कि सरकार ने मुझ पर प्रताड़ना की सारी हदें पार की हैं. लॉकडाउन के दौरान मुंबई से आए मेरे बेटे आयुष, बहू अर्पिता और उनके दोनों बच्चों को जानबूझकर तंग किया गया.

सवा माह तक जब तक परिवार मेरे घर में रहा, रोज आधी रात को बिजली काटी जाती रही. आयुष के बच्चे रात के अंधेरे में रोते थे. मैं खुद भाजपा सरकार में ऊर्जा मंत्री रहा हूं. मैंने हर बड़े अधिकारी को शिकायत की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. जैसे ही वह यहां से मुंबई वापिस गए, वैसे ही बिजली दुरुस्त हो गई.

अपने वाहन से चंडीगढ़ आ रहे आयुष को स्वारघाट बॉर्डर पर हवलदार ने दो घंटे तक खड़े रखा और बदसलूकी की. उन्होंने कहा कि परिवार और राजनीति अलग-अलग हैं. परिवार पर आंच बर्दाश्त नहीं होगी. सरकार तीन साल के कार्यकाल में हर मोरचे पर विफल रही है.

उन्होंने सीएम को नसीहत देते हुए यह तक कह डाला कि आने वाले दो सालों में अब वह कुछ ऐसा काम करें, जिससे कम से कम मंडी और प्रदेश की जनता तो याद रखे. हम कहां होंगे, यह अलग बात है.

सदर से विधायक अनिल शर्मा ने सरकार के मुखिया पर तंज कसते हुए कहा कि वे कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियों के सरकारों में चार बार विधायक व तीन बार मंत्री रह चुक हैं, ऐसे में अनिल शर्मा के पास सरकार चलाने का अच्छा अनुभव भी है.