गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार में देरी के कारण स्थानीय लोग परेशान, एक की टूट गयी शादी

गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार में देरी

काँगड़ा HNH | गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया में देरी के कारण गग्गल और इसके आस-पास के क्षेत्र के निवासी बहुत परेशान हैं.

स्थानीय लोगों का आरोप है कि सरकार ने घोषणा की थी कि गग्गल हवाई अड्डे का विस्तार किया जाएगा और उनकी जमीनों का अधिग्रहण किया जाएगा. अभी तक भूमि के अधिग्रहण के लिए कोई नोटिस जारी नहीं किया गया. ऐसे में जो लोग व्यवसाय करना चाहते हैं या अपने घर में एक-दो कमरा जोड़ना चाहते हैं, वे इस डर के कारण ऐसा नहीं कर पा रहे हैं कि कहीं अगर उनकी जमीन अधिग्रहित कर दी गयी तो उनका द्वारा किया गया सारा निवेश बेकार हो जायेगा.

गग्गल पंचायत के प्रधान रविंद्र बाबा ने कहा कि गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार को लेकर सरकार का यह निर्णय लोगों के सामाजिक जीवन को प्रभावित कर रहा है. उन्होंने कहा कि इसकी वजह से गांव के एक युवक की शादी टूट गई. इस युवक की गग्गल क्रासिंग मार्किट में दुकान थी. इसके ससुराल वालों को लगा की यदि हवाई अड्डे का विस्तार होता है तो युवक की दूकान इसमें चली जाएगी और उसका सारा काम धंधा ठप हो जायेगा. इसकी वजह से लड़की वालों ने शादी तोड़ दी.

गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार पर अनिर्णय के कारण कई लोग ऐसी ही परेशानियों का सामना कर रहे हैं.

गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार में देरी

गग्गल में एक किसान पूजा कुमारी ने कहा कि वह परिवार की जरूरतों के कारण अपने घर में एक कमरा जोड़ना चाहती हैं. लेकिन उन्हें डर है कि हवाई अड्डे के विस्तार के लिए उनके घर का अधिग्रहण कर दिया जाएगा. ऐसे में नया कमरा बनाने के लिए खर्चा करना व्यर्थ चला जायेगा.

सरकार ने गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार के लिए लगभग 40 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण करने की योजना बनाई थी. राजस्व अधिकारियों ने अनुमान लगाया था कि 40 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण करने के लिए लगभग 500 करोड़ रुपये की आवश्यकता हो सकती है.

स्थानीय लोगों ने गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ विरोध किया था क्योंकि इसके कारण कईं लोग अपनी आजीविका खो सकते हैं. लोग आरोप लगा रहे हैं कि इस परियोजना के बारे में अनिश्चितता उनके दिन-प्रतिदिन के जीवन को प्रभावित कर रही है.

अनुराग ठाकुर ने धर्मशाला में अपनी हाल ही की यात्रा के दौरान कहा था कि राज्य सरकार को पहले गग्गल हवाई अड्डे के विस्तार पर जोर देना चाहिए और उसके बाद मंडी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को बनाने पर विचार करना चाहिए.

उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि हवाई अड्डे के विस्तार के लिए अधिग्रहित की जाने वाली भूमि की सर्वेक्षण रिपोर्ट राज्य सरकार को भेज दी गई है.

यह भी पढ़े: 7 महीनों बाद इन रूटों पर दौड़ेगी HRTC