ऑरिजिनल सर्टिफिकेट वापिस न करने पर यह कॉलेज 5 विद्यार्थियों को चुकाएगा 50-50 हजार

कॉलेज 5 विद्यार्थियों को चुकाएगा 50-50 हजार
कॉलेज 5 विद्यार्थियों को चुकाएगा 50-50 हजार

सिरमौर HNH | छात्रों के ऑरिजिनल सर्टिफिकेट रखने पर हिमालयन स्कूल ऑफ नर्सिंग (हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशंस), काला अंब, नाहन को अपने पांच छात्रों को 50- 50 हजार रुपये चुकाने होंगे. अवैध रूप से ऑरिजिनल सर्टिफिकेट अपने पास रखने के मामले को हिमाचल उच्च न्यायालय ने गंभीरता से लिया है.

न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान और न्यायमूर्ति ज्योत्सना रेवाल दुआ की डिवीज़न बेंच ने पांच छात्रों द्वारा दायर याचिका पर यह फैसला सुनाया. दायर याचिका में छात्रों ने बताया था कि कॉलेज में प्रवेश लेते समय कॉलेज ने ऑरिजिनल सर्टिफिकेट मांगे थे. कॉलेज ने कहा था कि आवश्यकता पड़ने पर सर्टिफिकेट वापस कर दिए जायेंगे. लेकिन कॉलेज ने सर्टिफिकेट कभी वापिस ही नहीं किये.

इस पर कॉलेज अधिकारियों ने अपने जवाब में कहा कि संस्थान के SC/ST स्कॉलर्शिप के मामले के तहत CBI ने सर्टिफिकेट जब्त कर लिए थे. कॉलेज अधिकारियों ने कहा की सर्टिफिकेट उनके पास नहीं बल्कि अब CBI के पास हैं.

हालाँकि CBI ने अदालत को बताया की जब्त की गई फाइलों की जांच से पता चला है कि हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशंस ने गलत इरादे से छात्रों के ऑरिजिनल सर्टिफिकेट अपने पास रखे थे. दस्तावेजों को छात्रों को वापस लौटाने में CBI को कोई आपत्ति नहीं थी.

सीबीआई द्वारा किए गए सबमिशन के बाद, कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को ऑरिजिनल सर्टिफिकेट वापस करने का निर्देश दिया.

कोर्ट ने कहा की सर्टिफिकेट वापिस न मिलने से छात्रों को दिमागी तौर पर परेशानी झेलनी पड़ी और उन्हें अपने आगे का करियर बनाने में परेशानी हुई है.

यह भी पढ़ें: ऊना में देह व्यापार का भंडाफोड़, होटल से पांच लड़कियां बरामद