अटल टनल के बाद अब शिंकू-ला टनल का सर्वे शुरू, जानिए क्या होगा इस टनल में ख़ास

शिंकू-ला टनल का सर्वे

HNH | अटल टनल के शुरू होने के बाद अब शिंकू ला टनल के लिए हवाई सर्वे का काम शुरू हो गया है. शुरूआती परीक्षण कल लाहौल स्पीति जिले में केलांग के पास चिनूक हेलीकॉप्टर का उपयोग करके किया गया.

यह सर्वेक्षण संयुक्त रूप से सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय और भारतीय वायु सेना की कंपनी नेशनल हाईवे एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (NHIDCL) द्वारा आज से शुरू किया जाएगा.

डीजीएम अनिल ने कहा कि गुजरात के सलाहकार इंजीनियरों और डेनमार्क के तीन विशेषज्ञों ने दो दिनों में एक विशाल फ्रेम-संरचित एंटीना इकट्ठा किया है. हेलीकाप्टर के द्वारा पुरे क्षेत्र का सर्वे किया गया.

उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण के तहत, मैकेनिकल और भूवैज्ञानिक वैज्ञानिक ज़ांस्कर रेंज के 600 मीटर के हिस्से का अध्ययन करेंगे.

शिंकू-ला टनल की खासियतें

  • शिंकू ला टनल 16,600 फुट की ऊंचाई पर बनेगा जो की मनाली-दारचा-शिंकू ला-पदुम-कारगिल-लेह मार्ग का अल्टरनेटिव रास्ता होगा.
  • 13.5 किलोमीटर लंबी इस टनल को 12,000 फुट से अधिक की ऊंचाई पर बनाया जाएगा.
  • सुरंग सीमावर्ती क्षेत्रों में सैन्य आपूर्ति की आवाजाही को आसान बनाएगी.
  • इस ऊंचाई पर यह दुनिया का सबसे लंबा टनल होगा.

शिंकू-ला परियोजना के लिए एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की जा रही है और जल्द ही इसका टेंडर जारी किया जायेगा.

यह भी पढ़ें: अटल टनल के बाद अब हिमाचल में बनेगी तीन और टनल, जानिए कहाँ कहाँ