स्टेटस सिंबल के लिए हथियार रखने वालों को नहीं मिलेगा लाइसेंस: हाई कोर्ट

स्टेटस सिंबल के लिए हथियार
स्टेटस सिंबल के लिए हथियार

शिमला HNH | हिमाचल उच्च न्यायालय ने राज्य के लाइसेंसिंग अधिकारियों को निर्देश दिया है कि यदि आवेदक शस्त्र अधिनियम (Arms Act) के नियमों में निर्धारित मापदंडों (criteria) को पूरा नहीं करता, तो उसे कोई हथियार लाइसेंस नहीं दिया जाएगा और न ही उसके लाइसेंस को नवीनीकृत (renew) किया जाएगा.

उन्होंने कहा की शस्त्र लाइसेंस को स्टेटस सिंबल के रूप में इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी जा सकती. अदालत ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे सभी शस्त्र लाइसेंसों की समीक्षा करें और जहां भी आवश्यकता हो, कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करें और आज से चार महीने के भीतर इस काम को पूरा करें.

अदालत ने यह फैसला उस समय सुनाया जब चमन लाल शर्मा की ओर से एक याचिका दायर की गयी थी. इसमें चमन लाल ने शस्त्र लाइसेंसिंग अथॉरिटी द्वारा पारित आदेशों को रद्द करने की मांग की थी, जिसमे चमन लाल के दो लाइसेंस रद्द कर दिए थे.

सुनवाई के दौरान, लाइसेंसिंग प्राधिकरण की ओर से यह तर्क दिया गया था कि चमन लाल ने अपने पिछले हथियार लाइसेंस की जानकारी दिए बिना एक और हथियार लाइसेंस बनवा लिया था.

अदालत ने चमन लाल की याचिका को खारिज कर दिया और कहा की चमन लाल ने पुराने लाइसेंस की जानकारी दिए बिना ही नया लाइसेंस बनवा लिया. शस्त्र अधिनियम की धारा 17(3) के तहत चमन लाल के दोनों लाइसेंसों को रद्द कर दिया जाये.

यह भी पढ़ें: दो मोटरसाइकिल में हुई टक्कर, एक की गयी जान तो दूसरे को आई मामूली चोटें